Friday, October 9, 2009

अनोखा सच.......

मैं आज भी वही हूँ ,जहाँ कल था ;
मैं अभी भी वहीँ हूँ , जहाँ पहले था ;
मैं आज भी चमक   रहा हूँ
पहले भी चमकता  था;
प्रकाश की निर्मल किरणों को ;
यूं ही बिखेरता रहा ;
                मैं स्थिर हूँ , अचल हूँ,
                फिर भी दुनिया मुझे ,
                कभी उगता सूरज
                तो कभी डूबता सूरज 
                कभी सुबह -शाम की लालिमा
                तो कभी दिन की श्वेतिमा '
                भोगोलिक परिस्थतियों में जन्में अलग-अलग नाम
                इस दुनिया का सच बन जाते हैं'
मैं स्थिर , अचल  सबकुछ देखता रहा ,
अलग-अलग सच के बीच रास्ता ढूँढता रहा ,
अंततः ,अपना कर्त्तव्य मान ,
सिर्फ प्रकाश बिखेरता रहा ,
दुनिया की ख़ुशी के लिए ,
मैं स्थिर सूरज ...............
कभी उगता और कभी डूबता  सूरज  कहलाता  रहा...........

2 comments:

  1. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत हैं, लेखन कार्य के लिए बधाई
    यहाँ भी आयें आपका स्वागत है,
    http://lalitdotcom.blogspot.com
    http://lalitvani.blogspot.com
    http://shilpkarkemukhse.blogspot.com
    http://ekloharki.blogspot.com
    http://adahakegoth.blogspot.com
    http://www.gurturgoth.com
    http://arambh.blogspot.com
    http://alpanakegreeting.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. चिटठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. आप बहुत अच्छा लिख रहे हैं, और भी अच्छा लिखें, लेखन के द्वारा बहुत कुछ सार्थक करें, मेरी शुभकामनाएं.
    ---

    ---
    हिंदी ब्लोग्स में पहली बार Friends With Benefits - रिश्तों की एक नई तान (FWB) [बहस] [उल्टा तीर]

    ReplyDelete